Mar 7, 2017

महिला दिवस

यह एकदिन की इज़्ज़त कुछ अच्छी नहीं लगती

 बात समानता की हो तो बात कुछ और होती

प्रतीक्षा उस दिन की,जब अंतराष्ट्रीय

'समानता दिवस' का आगाज़ हो...
                                          पम्मी 

16 comments:

  1. Replies
    1. प्रतिक्रियाएँ प्रोत्साहन देती हैं ।
      बहुत बहुत शुक्रिया..

      Delete
  2. सही कहा है .... समानता और वो भी हमेशा हमेशा ... एक दिन नहीं ...
    सुन्दर शब्द ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रियाएँ प्रोत्साहन देती हैं ।
      बहुत बहुत शुक्रिया..

      Delete
  3. बिलकुल सच कहा है...सटीक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रियाएँ प्रोत्साहन देती हैं ।
      बहुत बहुत शुक्रिया..

      Delete
  4. सत्य वचन
    होली की शुभकामनाएं
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया..

      Delete
  5. चन्द शब्दों में गहरी और बड़ी बात. विश्व बिरादरी आपके विचार पर अवश्य मंथन करेगी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रियाएँ प्रोत्साहन देती हैं ।
      धन्यवाद।

      Delete
  6. अतिविचारक वक्तव्य।
    मुझे अपने कड़ी में जोड़ने के लिए धन्यवाद। "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रियाएँ प्रोत्साहन देती हैं ।
      धन्यवाद।

      Delete
  7. बहुत खूब। नारी शक्ति को समर्पित बहुत ही सशक्त रचना की प्रस्तुति। बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  8. साथॆक प्रस्तुतिकरण......
    मेरे ब्लाॅग की नयी पोस्ट पर आपके विचारों की प्रतीक्षा....

    ReplyDelete