Search This Blog

Aug 29, 2016

आसमान को और झुकना..

आसमान को और झुकना..


आसमान को और झुकना पड़ेगा

न जानू फिज़ाओ की आगोश की बातें..

ख्वाहिशों की मुरादो को पूरा करना पड़ेगा

छोड़ो आज़ खोने की बातें

पाने के हुनर की ज़िक्र करना पड़ेगा

जहर न बन जाउ पीते-पीते

अमृत की भी आस करना पड़ेगा

सहरा में सराबो से वास्ता सही..

अब्र की आस करना पड़ेगा

सरसब्ज़ की तलाश में

सदमात को भी वाज़िब करना पड़ेगा..
                              ©पम्मी सिंह 


(सहरा-रेगिस्तान ,सराबो-जल भ्रम,सदमात-आघात)


Aug 1, 2016

आँखों में कुछ नमी...

आँखों में कुछ नमी सी...

आज छत से ..

मैने सूरज को उगते देखा

कई रंगो में ढल कर

इक नई रंग में ढलते देखा

हमारे हिस्से की धूप हमीं तक थी,

मन में कुछ सुकून सी थी..

हमारी कली जो

आज फूल बनकर खिलखिलाएँ हैं,

हमारी शादव्ल,शफ़़फा़फ जौ इन्हीं से हैं

समेटती हूँ ..इन लम्हो की अहसासों को,

हमारे हिस्से की...

दरीचो के पीछे से झाँकती दो आँखें,

रिजक-ए-अहसास ही है.

जो हर गम में भी मुस्काएँ हैं..

देखो न..

इन मुस्कराती आँखों में

 फिर कुछ नमी सी है..

खेल है धूप छाँव की


पर कुछ सुकून सी है..।
                 ©पम्मी सिंह

(शादव्ल-हराभरा,शफ़फाफ़-उजला,धवल,रिजक-धन दौलत)



Some dewy tears in eyes...

Pronto I have seen rising Sun from our house top

the allurement of dawn and
 It's changed in unique colors. 
part of Sun rays which belongs to me
reached for me
today all buds changes in flowers
all greenery and pearly are accessible from this
try to collect all feelings and emotions.
ours share of the Sun beaming 
a couple of eyes peeping from  the small window
these feelings became to our wealth
which was smiling even in dismal...
please, see... still, some dewy tears are smiling in eyes
game of light and shade 
but still, there is some amenity... 
                               ©pammi singh
( a poem about when we see our growing child... )