Search This Blog

Oct 29, 2016

या देवी सर्व भूतेषु लक्ष्मी रूपेण संस्थिता ।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।


इस दीवाली कुछ अच्छा सोचते हैं
ज़ीस्त के अदवार बेसूद न हो

' तमसो मा ज्योतिर्गमय 'संदेश को ज्योतिर्मय कर
हर पलक्षिण को दीपों से आलोकित करते हैं,

किताबों की बातें किताबों में ही न हो
सुख, संतुष्टि, सद्भावना रूपी जौं को प्रज्जवलित करते हैं,

हसद, हमेव, हब्स को दूर कर
शबोरोज़ राहों को मंजिल के करीब लाते हैं,

चलो... इन ख्यालो की बस्ती से निकल कर
सू-ए-गुलज़ार रूख मोड़ते हैं,

कुछ इस तरह ...
हर आसताँ को दीपमय कर रौशन करते हैं.
                                   ©पम्मी सिंह


(हसद-ईष्या,हब्स-रूकावट,हमेव-अंहकार,आसताँ-चौखट,सू-ए-गुलज़ार-बाग की तरफ)

1 comment:

  1. आमीन ... हर चौखट रोशन हो ... सुख समृधि का वास रहे ...
    आपको दीपावली की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete