Search This Blog

Dec 29, 2015

Shafak

                                                
नव वर्ष  की
 नवोत्थित  शफ़क़ 
यूँ  ही  बनी  रहे 
हमारे  एवानो में 
आसाइशे  से नज़दीकियों की                                                              
सफ़र बहुत छोटी हो                                                                                                                 
साथ  ही उन दहकानों  की दरे 
भी  जगमगाती  रहे . .
ख्वाबों  में  भी
 इन अज़ीयते  से 
दूरियाँ बहुत  लम्बी हो 
 इन्सानियत फ़ना होने से 
 बचती  रहे. . 
अहद ये  करें कि
 फ़साने कम  हो
इक ही  हक़ीक़त बनी रहे . 
ये  शफ़क़ घरो  में 
खिलती रहे..
                     - ©पम्मी..
  

                                 
                                                                                           
शफ़क़ -क्षितिज  की लाली (dawn)
नवोत्थित -नया उठा हुआ (new rising day)
एवानो - महल (palace.home)
आसाइशों -सुख  समृधि (well being)
दहकानों -किसान (farmer)
अज़ीयते - दुख  दर्द (unhappy,sad)
अहद -प्रतिज्ञा (oath)
(चित्र- गूगूल के सौजन्य  से )

Dec 8, 2015

Niyat

नीयत

खामोश  जबानों  की भी  खुद  की  भाषा  होती  है 
कभी अहदे - बफा  के  लिए ,
कभी  माहोल को काबिल  बनाने के  लिए 
मु.ज्तारिब क्या  करु 
   

नीयतनहीं . . 

दुसरे  पर कीचड़ उछाल कर 
ख़ुद को कैसे साफ़ रखू।   
कभी  खुद  के  घोसले ,
कभी दुसरो के  तिनके  
की पाकीज़गी  बनाए रखने  की   ,नीयत
मुख्तलिफ़  होकर  भी 
ख़ामोशी अपनी  मशरुफ़ियत  नहीं 
ज़रा  सी.. 
चंद खुशियों  को महफूज़  रखने की 
नियत्त . . 
                                        - ©पम्मी . . 
( अहदे -वफ़ा -वफादार ,मुजतारिब -शिकायते ,मुख्तलिफ़ -भिन्न,)

Nov 23, 2015

Rishtey

               
                         

                                       रिश्ते 

  आप  सभी  का    अभिनन्दन,
 ब्लॉग  जगत  का  एक  कोना   जहाँ कलम  भी अपनी दवात  भी  अपनी  और  विचार  भी  अपने। .
 चलें   आज  हम  आप और   अन्तर्मन  से  उठी  विचार '' रिश्ते '' से सम्बन्धित  चन्द  शब्द......
जी हाँ ,   तनु  शब्द ' रिश्ते ' जो  एकाकी  शब्दावली  होकर   भी अनेकानेक  रुप  मे  हमसभी  में   पैठ  बनाई   है। सरल ,सुलभ ,सुलझी  होकर भी समस्त  जन  इसकी  मायाजाल  मे उलझी  हुई.. प्रभावशाली  पूर्वक  अपना प्रभाव  कौन ,कहाँ ,किससे ...प्रश्न  मृत्युपर्यन्त  भी  जारी  रखने  मे सक्षम। मायाजाल  इस  कदर की  तमाम  कशिश और टकराहट  होते हुए भी कभी  जीने की वजह ,कभी जीने  को विवश ,कभी जीवन  को  अग्रसर  करती हुई पूरी जीवन को बदल  डालने की कुवत  रखती। इसकी मजबूत  पृष्ठभूमि बनाने  के क्रम  में अनेक  व्यवस्थाओं और  अव्यवस्थाओं  से रूबरू  होना क्योंकि  ये  अनेक भाव ,अहसास  और  सवेंदनाओ  को  आत्मसात की हुई  है।  मृगमरीचिका की  तरह  जब यह  महसुस  कि  इस  रिश्ते  में  हमने  फ़तह   हासिल  कर ली  उसी  वक्त  से खोने ,हारने की डर  सताने  लगती   या  दूर  भागती प्रतीत  होती,  वहीं  से  नयी  सवेंदनाओँ  का  प्रादुर्भाव    आरम्भ  होने  लगती। रिश्तो  को  पकड़ने  और  जकड़ने   की जद्दोज़हद  शुरु  हो  जाती ..... पुन : शून्य  से  आरम्भ     आहिस्ता  आहिस्ता  शाम  की  और  कदम  बढ़ती  जाती ...अपनी  जिंदगी  समटने ,क़रीने  से सजाने में।
 उमंग , उत्साह  का  संचारण  बना  रहे  इसलिए  कभी  पुरानी  किताबो  के बाहरी  परत  को  रंगीन  कभी  अंदरुनी  पन्नो  को  कटने ,फटने  से  बचाने के  लिए  धूल  झाड़ती  रहती ..  इनका  निर्वहण  साधना  के समान  ही  है  जिसप्रकार  साधना  की उन्नत  अवस्था  मे  विशिस्ट  कल्पनाए उठती  उसी  प्रकार  सम्बन्धों    के  साथ  भी  विचारो   और  सपनो  का वेग।
 साधना में  पल - पल  क्षय ,घटाव का  आभास होता  रिश्तो  में  भी हर  पल खोने ,विखरने  की आहट  बनी  रहती।
किसने ? कहा  कि  इसका  परिचय  सीधा  और  सरल  है। हर  किरदार  में  सफलता  ?  मुश्किल  हैं। अपने  दोनों  हाथो से समेटने  के  क्रम  में  मन ,तन ,धन  को  बिखरना  पड़ता है। शारीरिक  अस्तित्व  के समाप्ती    के बाद भी  अन्य रुप  से रिश्तेदारी  निभाने  मे  सक्षम। दर्द  और  खुशी  का  समन्वय  हि  हमारे  रिश्ते  की  पहचान ...
 

Oct 29, 2015

                                                तलाश                                                                                            

स्वतंत्रता  तो उतनी  ही है  हमारी          
जितनी लम्बी बेड़ियों  की डोर 
हर इक ने इच्छा, अपेक्षा, संस्कारो और सम्मानो 
की 
सीमाए  डाल  रखी है,                                                         
तलाश  है उस थोड़े  से   आसमान की  
किसी ने कहीं                      
देखा  है वो इक आकाश  का  टुकड़ा               
जहाँ  हम  हि हम  हो               
उन्मुक्ता, अधिकार मिली  सभी चराचर  को                      
फिर. ,,,                     
हमे  मांगना  ही क्यों   पड़ा                 
क्यू   न हो ऐसा                           
कि                            
 स्वतंत्रता सब की जरूरत बन जाए                              
तलाश है उस थोड़े  से  आसमान की            
फिर..                           
उस वसुन्धरा की काया       
कुछ और  ही  होती     
तलाश है...                                                            ..        
                          
                                               © पम्मी.. 

(चित्र  गूगल  के  सौजन्य  से )

Sep 30, 2015

Kuchh

                                                  कुछ  

                             भावनाओं  , संवेदनाओं   एवम विचारों  की प्रस्तुतिकरण की   प्रयास ताकि शब्द और भावो  की अभिवयक्ति संजीदगी  से हो  कुछ से सबकुछ का सफर..…                                                                                                                       
                             ये   जिन्दगी  की  राह हमें अनेक घटनाओं  से रूबरू कराती है। चुन-चुन कर थोड़ी ख़ुशी ज्यादा से बहुत जयादा की अपेक्षा मे अनेकाएक फूल और पत्तों को झोली मे डालने के क्रम मे न जाने कितनी बार कभी  हाथो को  तो कभी  अपनी मनोभावों को इच्छा अनिच्छा से घायल करना और होना पड़ा.…....  देखा  जाए तो अवसरों का अभाव  न पहले था न होगा।                             
                          
                                 कुछ  अवसरें  भी  प्राप्त  होती   हैं । प्रश्न गुणवत्ता एवं मात्रा  की होती है, सफलता की महत्ता चुनाव पर निर्भर  है। कब , कहाँ और कैसे , किस तरह के प्रश्न।   हाँ … ये   प्रश्न   आकांक्षा  और समाधान के  चक्रव्यूह  मे ही तो है। जिंदगी की एक बड़ी  भाग इसी तनाव में गुजर जाती है कि  इच्छा  क्या है ? किसी एक की चुनाव और कोशिश मे चूक हो जाती है. . असमंजसता , अपेक्षताएं   की स्थिति  बलवती होती है कि विवेकशुन्यता की ओर  कदम बढ़ती हुई जान पड़ती  है।  संघर्ष की  प्राररभाव  भी यही से उद्भव होती है रेत हथेलियों मे ही रहे.…                                         
                           
                                इस जद्दोज़हद  को फलदायक रूपी बनाने के लिए संघर्षशीलता , कर्मठता और संकल्पता की पृष्ठभूमि  को सुदृढ़ करने  की आवश्कता है। भूमि का प्रभाव सकारात्मक हो तो कर्तव्य निर्वाहन की ओर अग्रसर।  क्षणिक व्यवस्थाओं  और  अव्यवस्थाओं से ऊपर उठ कर क्रियात्मक अनुशीलन ही जीवन निर्वहन  है।                                                                                                                                                                            
                            कुछ अपनत्व  की चाह में , राह में..…  रिश्तों  को जोड़ने- तोड़ने , समझने की व्याकुलता   कतिपय कारणों से अनेक मनोगत भावों  से गुजरना पड़ा  क्योकि समस्त भाव व्यक्त करने मे नहीं आती,  कुछ   भाव भंगिमा से शेष क्रियात्मक की श्रेणी मे आती  हैं। यहाँ दूरदर्शिता के प्रभाव से नहीं बचा जा सकता परन्तु मात्र स्वपनशील न होकर समाधानकर्ता के रूप मे किया जाए  तो सफलता अवश्य है। कुछ या  किसी एक का चुनाव  एवम कर्म के प्रति उत्कण्ठा को जागृत करना सदसत् प्रवृत्तिओं  की संघर्ष है। साधारण मनुष्यों (कुछ और  किसी  एक ) में  सम्बन्ध  गहरा है , द्व्न्द्  सदा से रही है।  इनका होना जीवनशैली की सार्थकता और संतुलित प्रदान करती है।  

                               आम  हुँ पर  संज्ञाशून्य नहीं इसलिए  लाख जतन के बाद भी कृतित्व गहरी नींद मे नहीं है..…कुछ और हरी भरी की चाह मे संघर्षरत बनी रहेगी।  

Sep 1, 2015






                                              ओम तत्सत्                      

                              

                           | |    वास्तविक  संघर्ष   तो  क्षेत्र   और   क्षेत्रज्ञ  का  है | |     

गीता की ये  पंक्तियाँ  मनुष्य  की मनोगत  समस्त  भाव  भंगिमा  की  क्रियातात्मक  रूप  को दर्शाता  है । यहाँ   शरीर क्षेत्र  है और जो  इसको भली  प्रकार  से  जानता  है वह क्षेत्रज  है। पर  उसे    संचालक  होना   है मन की अनेक  भावना  से दुविधा   मे  फॅसा   प्राणी   नहीं । इसमे  एक  बार विजय  प्राप्त कर  ले  तो प्रकृती  सदा  के  लिए विजय  प्राप्त  करती है । इस विजय  के पीछे  हार  नहीं  है । 
हम  जैसे  मनुष्य  की प्रबल  इच्क्षा की  प्रवृति  दो मुख्य  कारणो  से  है  ख़ुशी और  अधिकार  प्राप्त  करने  की प्रवृति । ये वृति  हमे थोड़ा  से  बहुत की और ले जाती  हैं । हमारी पूरी  जिंदगी  इसे  पाने  मे  गुजर  जाती है । परिणाम  स्वरुप हम  तनावपूर्ण  और दुखी  होते है । इच्क्षा  अंतहीन  सिलसिला   है ।   हममे  योग्यता  और  मात्रा दोनों  मे  असमंजसता  बनी  रहती  है ।  
मुश्किल  हालात  यह  है  कि  इसे  दबाया  भी  नहीं  जा  सकता और  न जल्द समाधान । 
सुझाव  यह  कि  अनियंत्रित  इच्क्षा को नियंत्रित  कर एक दायरे मे रखा  जाए अन्यथा  खुशियो  की समाप्ति  निश्चित  है । 
जज्बा  इन पंक्तियों  मे "
                                       आज  भी जी  सकती  हूँ 
                                      खुद की नाकामी  सही  पर, 
                                            जिंदगी नाकाम नहीं   
                                          क़ुछ  पाने  की तलब.. 
                                       दो चार  कदम और सही.. "